Kāmāyanī ke panne

Portada
Navayuga Granthāgāra, 1962 - 207 páginas

Dentro del libro

Comentarios de la gente - Escribir un comentario

No encontramos ningún comentario en los lugares habituales.

Contenido

Sección 1
1
Sección 2
18
Sección 3
29

Otras 10 secciones no mostradas

Términos y frases comunes

अपना अपनी अपने अब आज आदि आनन्द इड़ा इड़ा के इतिहास इस इसी उस उसका उसकी उसके उसमें उसे एक ऐसी कभी कर करता है करती करते करने कर्म कला कवि ने का काम कामायनी काव्य किन्तु किया है किसी की ओर कुछ के रूप के लिए केवल कोई क्या गई गया चित्र चिन्ता जब जा जाता है जाती जिस जीवन जो ज्ञान तक तथा तुम तो था थी थे दर्शन दिया देख देता देती है नहीं नारी नियति पति पर प्रकृति प्रसाद जी ने प्रेम फिर बन बना भारतीय भाव भी भीतर मनु को महाकाव्य मानव में ही मैं यह यही या रस रहा है रही रहे रूप में ले लेकिन वर्णन वह वासना विश्व वे श्रद्धा के संकेत संस्कृति सकता सत्य सब सर्ग में साहित्य सी सुख सुन्दर से सौन्दर्य स्वयं ही हुआ है हुई हुए हूँ हृदय है और है कि हैं हो होकर होता है

Información bibliográfica